होम विचार इस लेखक ने बोला फिर भाजपा पर हमला!

इस लेखक ने बोला फिर भाजपा पर हमला!

0
109

इस लेखक ने बोला फिर भाजपा पर हमला!

फेसबुक पर अपने लेखन के लिए मशहूर जगदीश्वर चतुर्वेदी ने एक बार फिर भाजपा को आड़े हाथों लिया है। जगदीश्वर जी हमेशा से अपनी बातों से भाजपा पर हमला बोलते रहे है। तथ्यों के साथ फेसबुक पर पोस्ट लिखना उनकी बातों को ज्यादा खास बनाता है। इस कड़ी में फिर से जगदीश्वर जी ने भाजपा पर निशाना साधा है।

लेखक का भाजपा पर हमला

लेखक जगदीश्वर जी ने लिखा कि भाजपा के सांसद,मंत्री और मुख्यमंत्री आए दिन धर्मनिरपेक्षता पर हमले करते रहते हैं और संसद-विधानसभाएं चुप हैं। इन संस्थानों की इस तरह मूकदर्शक की भूमिका गले नहीं उतर रही है। वे आम्बेडकर को माला पहना रहे हैं,पटेल की जय बोल रहे हैं,लेकिन धर्मनिरपेक्षता पर हमले कर रहे हैं। भाजपाईयों ने धर्मनिरपेक्षता को कांग्रेस का मसला बना दिया है जबकि धर्मनिरपेक्षता हमारी संवैधानिक-सामाजिक संस्कृति का अभिन्न अंग है। भाजपा-आरएसएस के लोगों को संसद-विधानसभा में सीधे सवाल किए जाने चाहिए कि वे धर्मनिरपेक्षता को मानते हैं या नहीं। यदि मानते हैं तो फिर उस पर हमले क्यों करते हैं। धर्मनिरपेक्षता मूलतः फंडामेंटलिस्टों को नापसंद है।

लेखक ने किया सवाल

अपने फेसबुक पोस्ट पर लेखक ने सवाल किया भाजपा के नेतागण फंडामेंटलिज्म की ओर जा रहे हैं? उल्लेखनीय है कांग्रेस में भी एक छोटा वर्ग इस तरह का है जिसे धर्मनिरपेक्षता नापसंद है। इससे पहले लेखक ने अपने एक ओर पोस्ट में मोदी सरकार पर अपनी बात रखी थी। लेखक ने लिखा था कि मोदी सरकार ने जब भी संसदीय प्रवर समिति की उपेक्षा की है उसे जनता में मुँह की खानी पड़ी है। जीएसटी क्लासिकल उदाहरण है।

यह भी पढ़ें:  पीएम मोदी अपनी जुबान पर देंगे कभी ध्यान?

आप से एक अपील

वायरल इंडिया न्यूज आप सभी से एक अपील करना चाहता हैं। आपको हमारे द्वारा पोस्ट की गई ख़बर अच्छी लगती है तो उसे जरूर शेयर करें। ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों तक सच पहुंच सके। साथ ही अगर आप हमारी किसी बात से सहमत या असहमत है तो वो भी जरूर बताएं। हमारी कोशिश है कि हम देश को सच दिखा सके और इस कोशिश में हमें आपकी सहायता की जरूरत हैं।

अधिक में लोड करें विचार

प्रातिक्रिया दे

इसके अलावा चेक करें

राष्ट्र निर्माण संगठन ने शुरू किया देश को बचाने का अंतिम प्रयास

राष्ट्र निर्माण संगठन की तरफ से भारत की बढ़ती जनसंख्या को लेकर चिंता जाहिर की गई है। संगठन…