होम समाचार राष्ट्रीय खबर नोटबंदी-जीएसटी ने किया बुरा हाल, देश को बुलेट ट्रेन की नहीं रोजगार की जरुरत – चिदंबरम

नोटबंदी-जीएसटी ने किया बुरा हाल, देश को बुलेट ट्रेन की नहीं रोजगार की जरुरत – चिदंबरम

0
146

मोदी सरकार पर बरसे पी चिदंबरम!

पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने पीएम मोदी और मोदी सरकार पर निशाना साधा है। पी चिदंबरम ने कहा है कि नोटबंदी और जीएसटी ने अर्थव्यवस्था को चौपट कर दिया है और अगर नोटबंदी के फैसले को लागू करने के समय वह वित्त मंत्री रहे होते तो इसे लागू करने की बजाय उन्होंने इस्तीफा दे दिया होता। देश की अर्थव्यवस्था 2004 से 2009 के बीच 8.5 प्रतिशत की दर से बढ़ रही थी पर 2014 से इसमें भारी गिरावट है।

नोटबंदी ने किया देश का बुरा हाल

नोटबंदी के फैसले पर सवाल खड़े करते हुए पी चिदंबरम ने कहा कि वित्त मंत्री अरूण जेतली कहते हैं कि अर्थव्यवस्था के बड़े घटक मजबूत है पर अगर ऐसा है तो छह लाख करोड़ के भारत माला कार्यक्रम और बैंकों के पुनर्पूजीकरण की जरूरत क्यों पड़ रही है। असल में देश में मंदी नोटबंदी के कारण है। चिदंबरम ने कहा कि नोटबंदी से कोई कालाधन नहीं पकड़ा जा सका है। द वायर को दिए इंटरव्यू में भी पूर्व वित्त मंत्री ने साफ किया था कि नोटबंदी एक गलत कदम था, जिसके पीछे किसका दिमाग था ये साफ नहीं हुआ है। इस फैसले के सभी खिलाफ थे फिर भी इसे लागू किया गया।

भाजपा वाला जीएसटी गलत कानून

जीएसटी को लेकर बोलते हुए चिदंबरम ने बताया कि देश अभी नोटबंदी की मंदी से उबरा भी नहीं था तब तक सरकार ने यह ‘महान’ जीएसटी थोप दिया। अनेक दर वाली इस प्रणाली को कुछ भी कहा जा सकता है पर जीएसटी नहीं। जीएसटी अपने आप में बुरा नहीं है पर इससे जुड़ा जो कानून बनाया गया है वह बुरा है। द वायर को दिए इंटरव्यू का भी यहां जिक्र करना चाहेंगे। उस इंटरव्यू में भी चिदंबरम ने बताया था कि ये कानून अच्छा हो सकता था लेकिन इसमें जिस तरीके से बदलाव किए गए उसके बाद ये जीएसटी नहीं है।

यह भी पढ़ें:  मनोहर, योगी और मोदी सरकार पर बरसा सुप्रीम कोर्ट, सुनाई खरी-खरी!

देश को बुलेट ट्रेन की नहीं रोजगार की जरुरत

मोदी सरकार ने सत्ता संभालने से पहले देश को बुलेट ट्रेन देने का वायदा किया था, जिसे पूरा करते हुए मोदी सरकार ने जापान की मदद से इसकी आधारशिला रख दी है। इसको लेकर भी चिदंबरम ने कहा कि एक लाख करोड़ की यह परियोजना गलत प्राथमिकता का नतीजा है। इसकी बजाय हमें एक करोड़ रूपये हर स्कूल को देने चाहिए। हमारी प्राथमिकता बुलेट ट्रेन नहीं बल्कि शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार आदि है।

पी चिदंबरम की इन बातों पर भाजपा क्या कहेगी ये तो वक्त बताएगा, लेकिन इन दिनों पी चिदंबरम अपने कश्मीर को लेकर दिए बयान के कारण विवादों में है।

अधिक में लोड करें राष्ट्रीय खबर

प्रातिक्रिया दे

इसके अलावा चेक करें

राष्ट्र निर्माण संगठन ने शुरू किया देश को बचाने का अंतिम प्रयास

राष्ट्र निर्माण संगठन की तरफ से भारत की बढ़ती जनसंख्या को लेकर चिंता जाहिर की गई है। संगठन…